2/26/2021

thumbnail

उस्ताद शायरों द्वारा लिखी गई Classic Love Shayari in Hindi

 इंटरनेट पर Love shayari लिखकर सर्च करते ही न जाने कैसी कैसी ऊटपटाँग तुकबंदियाँ सामने आ जाती हैं। ऐसी शायरी जिसका न लव (love) से कोई लेना देना है न shayari से। जिसे पढ़कर आप मन ही मन हँस तो सकते हैं परंतु न तो किसी को सुना सकते हैं न ही किसी को भेज सकते हैं। शायरी करना इतना ही आसान होता तो आज गली गली में शायर घूम रहे होते । 

बहरहाल, इस पोस्ट में हम आपके लिए लेकर आए हैं, उस्ताद शायरों द्वारा प्यार, मोहब्बत, इश्क़ Love के ऊपर लिखी गई चुनिन्दा Sher-O-Shayari जिसे आप किसी को सुना भी सकते हैं और भेज भी सकते हैं। 

Love Shayari in Hindi 

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का 
उसी को देखकर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले 
(मिर्ज़ा ग़ालिब)

और क्या देखने को बाक़ी है 
आपसे दिल लगा के देख लिया 
(फैज अहमद फैज)

गिला भी तुझसे बहुत है मगर मोहब्बत भी 
वो बात अपनी जगह है ये बात अपनी जगह 
(बसीर सुल्तान काजमी)

हुआ है तुझसे बिछड़ने के बाद ये मालूम 
कि तू नहीं था तेरे साथ एक दुनिया थी 
(अहमद फराज)

आप के बाद हर घड़ी हमने 
आप के साथ ही गुज़ारी है 
(गुलज़ार)

करूंगा क्या जो मोहब्बत में हो गया नाकाम 
मुझे तो और कोई काम भी नहीं आता 
(ग़ुलाम मोहम्मद कासिर)

More Beautiful Love shayari in Hindi ... 


दिल धड़कने का सबब याद आया 
वो तिरी याद थी अब याद आया 
(नासिर काजमी)

मुसाफिरों से मोहब्बत की बात कर लेकिन 
मुसाफिरों की मोहब्बत का एतबार न कर 
(उमर अंसारी)

भूले हैं उन्हें रफ्ता रफ्ता मुद्दतों में हम 
क़िस्तों में ख़ुदकुशी का मज़ा हमसे पूछिए 
(खुमार बाराबंकवी)

तुम मेरे लिए अब कोई इल्ज़ाम न ढूँढो
चाहा था तुम्हें इक यही इल्ज़ाम बहुत है 
(साहिर लुधियानवी)

इश्क़ जब तक न कर चुके रुसवा 
आदमी काम का नहीं होता 
(जिगर मुरादाबादी)

Some more Mohabbat Sher-O-Shayari ... 


ज़िंदगी यूं ही बहुत कम है मोहब्बत के लिए 
रूठकर वक़्त गँवाने की जरूरत क्या है 
(अज्ञात)

हम अपना इश्क़ चमकाएँ तुम अपना हुस्न चमकाओ 
कि हैरां देखकर आलम हमे भी हो तुम्हें भी हो 
(बहादुर शाह जफर)

तुम्हारा दिल मेरे दिल के बराबर हो नहीं सकता 
वो शीशा हो नहीं सकता ये पत्थर हो नहीं सकता 
(दाग़ देहलवी)

हम ने सीने से लगाया दिल न अपना बन सका 
मुस्कुरा कर तुमने देखा दिल तुम्हारा हो गया 
(जिगर मुरादाबादी)

अच्छा खासा बैठे बैठे गुम हो जाता हूँ 
अब मैं अक्सर मैं नहीं रहता तुम हो जाता हूँ 
(अनवार शऊर)

याद उसकी इतनी खूब नहीं 'मीर' बाज़ आ 
नादान फिर वो जी से भुलाया न जाएगा 
(मीर)

क्या जाने उसे वहम है क्या मेरी तरफ से 
जो ख़्वाब में भी रात को तन्हा नहीं आता 
(ज़ौक)

(love poetry in hindi, love shayari in hindi for girlfriend, emotional shayari, sad love shayari
mohabbat shayari, romantic shayari in hindi, best love shayari, beautiful hindi love shayari
true love shayari)

No Comments