Showing posts with the label lok kathayenShow all

बूढ़े की संदूकची - लोक कथा | Sandookchi - A Folk tale in Hindi

एक बूढ़ा किसान गाँव के अपने छोटे से घर में अकेला रहता था. उसकी पत्नी गुजर चुकी थी और जो उसके तीन बेटे थे, वे जैसे जैसे उनकी शादियाँ होती गईं…


राजा और बाज़ - हिन्दी लोक कथा | Raja aur Baaz - Hindi Lok Katha

बहुत पुरानी बात है. गर्मियों का मौसम था. ऐसे में एक राजा अपने दलबल सहित जंगल में शिकार के लिए निकला. राजा के साथ उसका एक पालतू बाज़ पक्षी था…


आँखों की रोशनी - लोककथा | Ankhon ki roshani - Lok katha in Hindi

पुराने जमाने की बात है. किसी शहर में एक धनवान बुढ़िया रहती थी. उसका घर कीमती सामानों से हमेशा भरा रहता था. होनहार की बात, एक दिन बुढ़िया की आ…


अंधेर नगरी चौपट राजा की कहानी | Andher Nagari Chaupat Raja Ki Kahani - Lok katha

एक महात्मा जी देश भ्रमण को निकले थे. महात्माजी बड़े विद्वान् और दूरदर्शी थे. साथ में रामदास नाम का उनका एक शिष्य भी था. एक दिन गुरु और शिष्य…


महात्मा और चूहा - लोक कथा | Mahatma aur Chuha - Lok Katha in Hindi

किसी घने जंगल के बीच एक बहुत पहुंचे हुए तपस्वी महात्मा रहते थे. उनकी छोटी सी कुटिया में एक दिन एक चूहा न जाने कहाँ से आ गया और वहीं रहने लग…


भैंस - एक लोककथा | Bhains - Hindi Lokkatha

किसी गाँव में एक किसान अपनी पत्नी और बच्चों के साथ रहता था. एक दिन किसान सुबह सुबह कहीं जाने के लिए तैयार हो गया और अपनी पत्नी से बोला - &…


गधे की हजामत - लोक कथा | Gadhe ki Hazamat - Lok katha in Hindi

बहुत समय पहले बग़दाद शहर में अली नाम का एक नाई रहता था. वह हजामत की कला में बड़ा होशियार था. यही कारण था कि उसकी दूकान में शहर के बड़े बड़े अम…


चार भाई - हिन्दी लोककथा | Char Bhai- Lokkatha in Hindi

किसी गाँव में चार भाई रहते थे. चारों भाइयों में आपस में बड़ा प्रेम था और सभी एक दूसरे का कहना मानते थे. एक बार उनके इलाके में बहुत भयंकर अका…


सफ़ेद हाथी - बर्मा की लोककथा | Safed Haathi - Burma ki Lokkatha

बहुत पुरानी बात है. बर्मा के किसी शहर में, औंग नाम का एक धोबी और नारथु नाम का एक कुम्हार अडोस-पड़ोस में रहते थे. औंग अपने काम में बहुत ही ह…


एक शहर, दो भाई - अरबी लोककथा | An Arabian Folk Tale

बात उन दिनों की है जब यरुशलम शहर पर राजा सुलैमान का शासन था. हर दिन राजा अपने महल में दरबार लगाते थे जहां से राजकाज चलाते थे और प्रजा के व…